मौसम shayari 2020। Mosam shayari in Hindi | Diaryshayarki

 मौसम shayari 2020। Mosam shayari in Hindi | Diaryshayarki

 
 

शुगर से मीठी कभी मिर्च से भी तीखी है तू,

रब जाने उसने किस तरह लिखी है तू,

सवाल भी तेरे कभी जवाब भी मुझे देने दिया कर,

आसुओं से बातें मनवाना जाने कहां से सीखी है तू।



Suger se mithi kabhi mirch se teekhi hai tu,

Rab jane usne kis tarah likhi hai tu,

Sawal bhi tere kabhi jawab bhi mujhe dene diya kr,

Aansuon se baatein manwana jane kaha se seekhi hai tu


मौसम shayari 2020। Mosam shayari in Hindi | Diaryshayarki.in


मेहनत तुझे तेरा मुकाम दिलाएगी,

चलता रह किसी दिन बड़ा नाम दिलाएगी,

कभी डरना नहीं रास्ते कि चट्टान से,

क्योंकि वो भी तुझे मंजिले चढ़ना ही सिखाएगी।


Mehnat tujhe tere mukam dilaegi,

Chalta rh kisi din bada naam dilaegi,

Kabhi darna nahi raste ki chattan se,

Kyoki vo bhi tujhe manzil chadhna sikhaegi


झूठ लिखकर सच पढ़ना चाहते हैं सब,

दूसरे हाथों को कुचलकर मंजिल चढ़ना चाहते हैं सब,

अब फर्क नहीं पड़ता किसी को रोता देखकर,

क्योंकि उन्ही की ज़मीन पर अपना होटल गड़ना चाहते हैं सब।


Jhooth likhker sach padhna chahte hain sab,

Dusre haathon ko kuchalkr manzil chadhna chahte hain sab,

Ab fark nahi padta kisi ko rota dekhker,

Kyuki unhi ki zameen par apna hotel gadhna chahte hain sab


हम सांसे तक रोक लेते हैं जब तुम आती हो,

न जाने बचपन से तुम क्या खाती हो,

हम तुम्हे खुशबू कहकर पुकारना चाहते हैं,

लेकिन तुम आते ही पाद जाती हो।


Hum saanse tak rok lete hain jab tum aati ho,

N jane bachpan se tum kya khati ho,

Hum tumhe khushbu kahker pukarna chahte hain,

Lekin tum aate hi paad jati ho


दुआएं मेरे साथ मेरी मां की हैं,

धरती को तो पा लिए अब अस्मा बाकी है,

पीठ पीछे भोकने वालो से मुझे कुछ नहीं कहना,

सामने उनका मुंह नहीं खुलता बस इतना ही काफी है।


Duaae mere saath meri maa ki hain,

Dharti ko to pa liya ab aasma baaki hai,

Peeth peechhe bhokne walo se mujhe kuchh nahi kahna,

Samne unka muh nahi khulta bas itna hi kafi hai


खयालों में तेरे अब आना नहीं,

बातों से मुझे समझना नहीं,

रोक लिया होता उसी दिन चाहे दूर से,

क्योंकि पास मैं तेरे अब आना नहीं।


Khayalon mein tere ab aana nahi,

Baaton se mujhe samjhana nahi,

Rok liya hota usi din chahe door se,

Kyuki paas maie tere ab aana nahi


मौसम shayari 2020। Mosam shayari in Hindi | Diaryshayarki.in


दिन में भी रात होती हर मोड़ पर,

जहां खड़े होते बेशरम सारी हदें तोड़ कर,

धड़कन ना संभले कैसे ये दम ले,

क्या कोई भाई नहीं चलता अब रोड पर।


Din maie bhi raat hoti har mod par,

Jaha khade hote besharam sari hade tod kar,

Dhadkan na sambhle kaise ye dam le,

Kya koi bhai nahi chalta ab road per






Judai Shayari

love shayari

Oldest