Narazgi shayari in hindi । नाराज़गी की शायरी

  Narazgi shayari in hindi। नाराज़गी की शायरी 


जब लड़कियां नाराज़ हो जाती हैं तो वो थोड़ी गुस्सैल हो जाती है। तो उनको मानने के लिए आप इस शायरी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Jab ladkiyan naraz ho jati hain to woh thodi gussel ho jati hain. To unko manane ke liye aap is shayari ka istemal kar sakte hain.


तुझे निभाना है तो निभा

यूं बातों में गर्मी ना लाया कर

बहुत कड़वे लगते हैं तेरे नाराजी अल्फ़ाज़

खुद को ज़रा मीठा घोल पिलाया कर


Tujhe nibhana hai to nibha

Yu baato me germi na laya kar

Bahut kadve lagte hain tere narazi alfaaz

Khud ko zara meetha ghol pilaya kar


बातों को खफा ना होकर प्यार से बतलाया कर

हर बात की तोहमतें ना लगाया कर

हमेशा नाराज़गी छाई रहती है तेरे चहरे पर

कभी तो बिन बात मुस्काया कर


Baaton ko khafa na hokar pyar se batalaya kar

Har baat ki tohmate na lagaya kar

Hamesha narazgi chhai rahti hai tere chehre par

Kabhi to bin baat muskaya kar


Narazgi ki shayari in hindi 2020। नाराज़गी की शायरी 2020।


यूं हर बार छोड़ने कि धमकी ना दिखाया कर

रिश्ते को हमारे कभी तो दिल से निभाया कर

हर बार मुझे ही समझाती हो

कभी तो खुद को समझाया कर


Yu har baar chhodne ki dhamki na dikhaya kar

Rishte ko hamare kabhi to dil se nibhaya kar

Har baar mujhe hi samjhati ho

Kabhi to khud ko samjhaya kar


लड़ते - लड़ते यूं दिन ना बिताया कर

सुबह की मीठी चाय फूलकर ना बनाया कर

अर्सा हो गया है तेरे साथ बैठे

कभी तो अपने बाजू में बुलाया कर


Ladte ladte yu din na bitaya kar

Subah ki meethi chay foolkar na banaya kar

Ersa ho gya hai tere saath baithe

Kabhi to baaju me bulaya kar


Narazgi ki shayari in hindi 2020। नाराज़गी की शायरी 2020।


प्यार को फिर से जन्नत बताया कर

बरसातें हों तो भीग जाया कर

इतनी उखड़ी उखड़ी ना रहा कर

दिलों की महफिलों में भी घूम आया कर


Pyar ko fir se jannat bataya kar

Barsate ho to bheeg jaya kar

Itni ukhdi ukhdi na raha kar

Dilo ki mehfilo me bhi ghoom ayaa kar


वो बिना ब्रेक की बातें फिर से चलाया कर

वो फिल्मी इशारे फिर से दिखाया कर

आज कल डरती भी नहीं हो

बाहें तरस चुकी हैं कभी तो डर जाया कर


Vo bina breake ki baatein fir se chalaya kar

Vo filmi ishare fir se dikhaya kar

Aaj kal darti bui nahi ho

Baahe taras chuki hain kabhi to dar jaya kar

 

 

Judai Shayari

love shayari

Previous
Next Post »

5 Comments

Click here for Comments